Story of Triund from Jewel of Dharamsala to Public Toilet of the World

(As written and sent to us by Ravindra Thakur Chamba) त्रिउंड की कहानी धर्मसाला के गहने से भारत व दुनिया के सार्वजानिक शौचालय तक, त्रिउंड हिल, द ज्वेल ऑफ़ धर्मसाला त्रिउंड हिल, जिसकी वास्तविक ऊंचाई लगभग १०६३२ फ़ीट (10,632 फ़ीट) (3240.6336 मीटर्स) है और जिधर श्री कुणाल पत्थरी देवी जी का मंदिर भी है, इसके धरा में पहला कैम्पग्रॉउंड (कैंपिंग हेतु उपयुक्त जगह) त्रिउंड जिसकी ऊंचाई 9150 फ़ीट से 9414 फ़ीट के बीच है (2788.92 मीटर्स to 2869.387 मीटर्स ) दूसरा ऊँचा कैंपिंग हेतु उपयुक्त जगह सनो-लाइन कैफ़े जो की लगभग ३२५० ऊंचाई पर (3250 मीटर्स) है | (अब तो … Continue reading

Gaj Pass Travelouge

गज जोत यात्रा वृतान्त इनसे मिलिये। ये हैं तिलक राम जी।  उम्र 16 साल। 8 भाइयों में सबसे छोटे हैं। घेरा के पास खड़ी बाहीगांव के रहने वाले हैं। गज जोत यात्रा के दौरान बग्गा धार में इनसे मिलना हुआ।   ये गद्दी समुदाय से सम्बंध रखते हैं। बात करने पर पता चला की शाहपुर के नज़दीक मनोह गांव में भी जमीन है। गर्मियोंमें बग्गा धार की तरफ कूच करते हैं। सर्दियों में वापिस मनोह चले जाते हैं। आठवीं तक पढ़ने के बाद स्कूल छोड़ दिया है। पूछने पर जवाब मिला, “पढ़ाई कर के क्या करूँगा? 200 भेड़ बकरियां हैं। उन्हें … Continue reading

Pass of Dhauladhar Mountains

Goddess of Dhauladhar Mountains

There are still many left….but as of 2017, I got the opportunity to attempt Pass all thanks to one new trail mate also from Chamba. Manyank Jaryal, he too had attempt Pass and we were linked by the Admins of http://www.facebook.com/Triund. We shared details and made a rough plan of around 3-4 days high mountain hike and that too without guide. I would like to mention, though we chose to have no human guide but online there is good information on trail. So we read it (Though ground detail and online details, they are not same always…as on ground things … Continue reading